Shri Hanuman Ji ke Jinda Hone ke Saboot | हनुमान जी जिन्दा हैं |

11

Shri Hanuman Ji ke Jinda Hone ke Saboot | हनुमान जी जिन्दा हैं |

Hanuman Chalisa Hindi

Shri Hanuman ji ke jinda hone ke Saboot – Shri Hanuman Is alive

जय श्री राम दोस्तों आज हम इस पोस्ट में कुछ ऐसे तथ्यों के बारे में बताएंगे जिनसे यह साबित होता ही की भगवान् श्री हनुमान जी अभी भी ज़िंदा है। हम आज कुछ ऐसी बातें बताएंगे जिनसे यह साबित होता है कि भगवान् श्री हनुमान जी अभी भी इस दुनिया में कहीं न कहीं वास करते हैं। अगर आप भी इनसे जुडी ऐसी बातों के बारे में जानना चाहते है तो आप बिलकुल सही जगन पर हैं। यहाँ हमने कुछ ऐसी घटनाओं तथा जगहों के बारे में बताया है जिनसे यह पता है कि भगवान् श्री हनुमान अभी भी कलयुग में ही हैं।

श्री हनुमान भगवान श्री राम के महान भक्त भगवान श्री राम के बाद यदि किसी का नाम स्मरण किया जाता है तो वह है हिंदुइज्म के सबसे ताकतवर और सबसे लोकप्रिय हनुमान जी इनकी बहादुरी और शौर्य की कहानी तो हर किसी ने सुनी होगी इनके किस्से हमने रामायण और महाभारत में भी सुने हैं जो हनुमान जी के बिना पूरी नहीं हो सकती रामायण काल में जन्मे हनुमान सैकड़ों सालों बाद महाभारत काल में भी जिंदा थे ।- shri hanuman Ji Jinda Hain

जिनके अस्तित्व को हम त्रेतायुग से जानते हैं कहा जाता है कि महाभारत की लड़ाई से पहले हनुमान जी पांडवों से मिलने आए थे पुराण कथाओं के अनुसार हनुमानजी को अमरता का वरदान प्राप्त था धार्मिक ग्रंथों की बात करें तो हमें उनमें हिंदू धर्म के भगवानों के वापस वर्ग में जाने का वर्णन मिलता है हनुमान जी के मरने के और स्वर्ग में जाने के बाद किसी भी ग्रंथ में देखने को नहीं मिलती इस बात को दोहराने की जरूरत नहीं है कि भगवान हनुमान अमर थे। कुछ महान लोगों ने उनके दर्शन करने की है।

तुलसीदास स्वामी रामदास और राघवेंद्र स्वामी जैसे महापुरुष शामिल है, हनुमान जी को मानने वाले लोग कहते हैं कि हनुमान जी हर उस जगह पर मौजूद है जहां उनके भक्तों ने बुलाते हैं उन्हें याद करते हैं और हनुमान जी हर उस जगह आ जाते हैं जहां उन्हें सच्चे दिल से पुकारा जाता है ।

shri hanuman ji ke jinda hone ke saboot | श्री हनुमान जी के जिन्दा होने के सबूत  |

वहीं दुनियाभर में कई ऐसी जगह हैं जहां ऐसे पैरों के निशान बने हुए हैं इसका पता चलता है कि कोई ऐसा जीव मौजूद है जो आकार में बेहद विशाल है दुनिया भर के कई अलग-अलग देशों में इस तरह के विशालकाय पैरों के निशान काफी संख्या में पाए गए हैं ।

वैज्ञानिकों का दावा है कि यह निशान कैसे जीते हैं जिसका शरीर का भी विशाल रहा होगा अमेरिका में कई लोगों ने काफी बार एक विशालकाय जीव को देखने की बात कही है । माना जाता है कि अमेरिका की माया सभ्यता भी एक मंकी नामक भगवान की पूजा करती थी इसके अलावा चीन की दंतकथा में भी एक मंकी किंग का जिक्र मिलता है जो बहुत हद तक हमारे हनुमान जी से मिलते जुलते हैं।

ये सारी सबूत यही इशारा करते हैं कि हमारे हनुमान जी आज भी हमारी धरती पर हमारे बीच मौजूद है इस बात का प्रमाण हमें श्रीलंका में रह रहे एक आदिवासी कबीले से मिलता है कहते हैं जब भगवान राम ने अपने मानव शरीर छोड़ दिया था।

तब हनुमान अयोध्या छोड़ भगवान राम की याद में श्रीलंका के जंगलों में गुरु पर्वत की तरफ चले गए जहां जंगली आदिवासियों ने हनुमान जी की बहुत सेवा की हनुमान जी की बहुत सी बातें वहां से वापस लौटते वक्त उनकी भक्ति और सेवा से खुश होकर हनुमान जी ने इस कबीले के लोगों को ब्रह्म ज्ञान का बोध कराया।

और उन्हें यह वचन दिया कि वे हर 41 साल बाद उनकी कमी के साथ रहने आएंगे और उनकी पीढ़ी को आत्मज्ञान देंगे साथ ही हनुमान जी ने उन्हें मंत्र भी दिया काल तंत्र को देते हुए कहा कि जब भी तुम मेरे दर्शन करना चाहो तब यह मंत्र पढ़ना कबीले वालों ने हनुमान जी से पूछा कि यदि यह मंत्र किसी और के हाथ लग गया और वह इसका गलत इस्तेमाल करने लगा तब क्या ?

तब हनुमान जी ने उनसे कहा कि यह मंत्र सिर्फ उस इंसान के लिए काम करेगा जिसको अपनी आत्मा का मुझ से जुड़े रहने का एहसास होगा और जहां यह मंत्र पढ़ा जाएगा वहां से 980 किलोमीटर तक कोई भी इंसान नहीं होना चाहिए जो मुझ में सच्चा विश्वास ना रखता हो। मजेदार बात यह है कि यह जंगली आदिवासी समुदाय आज भी मौजूद है ।

निष्कर्ष | Conclusion |

तो दोस्तों आशा करता हु कि आपको भगवान् श्री हनुमान जी के ये सब जानकर अच्छा लगा होगा । धन्यवाद

Jai Shree Ram-जय श्री राम – Jai Hanumaan-जय हनुमान 

3 thoughts on “Shri Hanuman Ji ke Jinda Hone ke Saboot | हनुमान जी जिन्दा हैं |”

Leave a Comment